Mangal Dosh Shanti Poojan (मंगल दोष शांति पूजन )

मंगल दोष शांति पूजन भात पूजन सहित (मंगल नाथ मंदिर उज्जैन में)

मंगल ग्रह या मंगल ज्योतिष के अनुसार आक्रामकता का ग्रह है ज्योतिष की दृष्टि से मंगल ग्रह को एक क्रूर ग्रह के रूप में देखा जाता है, तथा मंगल ग्रह को भगवान के रूप में माना जाता है | मंगल ग्रह आकाश में लाल रंग के खगोलीय शरीर के साथ वर्णित है | मंगल ग्रह के प्रकृति के वर्णन में उसे क्षत्रिय माना गया है, एक सुंदर और छोटे कद का व्यक्तित्व लिए है जिसके चार हाथ है जिनमे वह हथियार लिए है | शादी के संदर्भ में मंगल ग्रह की स्थिति का सर्वोच्च महत्व है क्योंकि यह आक्रामकता का प्रतीक है | पति, वैवाहिक गांठ, लिंग आदि में मंगल की स्थिति प्रभावित करती है | मंगल ग्रह विवाह की सकारात्मक या नकारात्मक स्थिति को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है |
 
मंगल दोष एक ज्योतिषीय स्थिति है जो तब होता है यदि वैदिक ज्योतिष कुंडली के 1, 4, 7, 8 और 12वे घर में हो, ऐसी स्थिति में पैदा हुआ जातक मांगलिक कहा जाता है | यह स्थति विवाह के लिए अत्यंत विनाशकारी मानी गयी है | संबंधो में तनाव, कार्य में असुविधा तथा नुकसानऔर व्यक्ति की असामायिक मृत्यु का कारण मंगल को माना गया है | मंगल पूजा के द्वारा मंगल ग्रह को प्रसन्न किया जाता है,तथा उसके विनाशकारी प्रभावों को नियंत्रित किया जाता है, तथा सकारात्मक प्रभावों को बढ़ाया जाता है |
 
यह पूजन उज्जैन के मंगल नाथ मंदिर में सम्पन्न कराई जाती है, जो कि एक लिंग रूप में मंगल नाथ का स्थान है, जो पृथ्वी के नाभि केंद्र पर स्थापित है, इस पूजन के प्रभाव से विवाह में देरी और कुंडली मे स्थित उग्र मंगल की शांति होती है।
 
Mangal Dosh Shanti Pujan Bhat Pujan (in Mangal Nath Temple, Ujjain)
 
According to Mars or Mars astrology, it is a planet of aggression. From the point of view of astrology, Mars is seen as a cruel planet, and Mars is considered as God. Mars is described in the sky with the red celestial body. In the description of the nature of Mars, it is considered a Kshatriya, has a beautiful and short stature, which has four hands in which he has taken up arms. The position of Mars in the context of marriage is of paramount importance because it is a symbol of aggression. Husband, marital lump, sex etc. affect the position of Mars. Mars is known to affect the positive or negative position of marriage.
 
Mars defect is an astrological condition that occurs when Vedic astrology is in the house of 1, 4, 7, 8 and 12 of the horoscope, in this situation the person born in such condition is called Manglik. This place is considered to be extremely destructive for marriage. Tension in the relationship, the inconvenience of work and the loss and the untimely death of the person, Mangal has been considered. Mars is pleased by the worship of Mars, and its destructive effects are controlled, and positive effects are increased.
 
This worship is done at Ujjain's Mangal Nath Temple, which is the place of Mangal Nath in a gender form, which is situated on the navel center of the earth, delaying the marriage with the effect of this worship and peace of the fiery Mars located in the horoscope it occurs.
 

Note: 

हम आपको पूजा के फोटो / वीडियो व्हाट्सएप द्वारा प्रदान करेंगे ।
We also provide photo/video of the photo perform on behalf you at Whatsapp. 

 
 
Price : Rs. 11000.00