Nav Chandi Shree Durga Havan Sahit (श्री दुर्गा शप्तशती नव चंडी यज्ञ विधान)

श्री दुर्गा शप्तशती नव चंडी यज्ञ विधान
 
माँ दुर्गा को शक्ति की देवी कहा जाता है। दुर्गा जी को प्रसन्न करने के लिए जिस यज्ञ विधि को पूर्ण किया जाता है उसे सतत चंडी यज्ञ बोला जाता है। नवचंडी यज्ञ को सनातन धर्म में बेहद शक्तिशाली वर्णित किया गया है। इस यज्ञ से बिगड़े हुए ग्रहों की स्थिति को सही किया जा सकता है और इस विधि के बाद  सौभाग्य आपका साथ देने लगता है। इस यज्ञ के बाद मनुष्य खुद को एक आनंदित वातावरण में महसूस कर सकता है। वेदों में इसकी महिमा के बारे में यहाँ तक बोला है कि नव चंडी यज्ञ के बाद आपके दुश्मन आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकते हैं। इस यज्ञ को गणेशजी, भगवान शिव, नव ग्रह, और नव दुर्गा (देवी) को समर्पित करने से मनुष्य जीवन धन्य होता है।
 
यज्ञ विद्वान ब्राह्मण द्वारा किया जाता है क्योंकि इसमें 700 श्लोकों का पाठ किया जाता है जो एक निपुण ब्राह्मण ही कर सकता है। नव चंडी यज्ञ एक असाधारण, बेहद शक्तिशाली और बड़ा यज्ञ है जिससे देवी माँ की अपार कृपा होती है। पुराने समय में देवता और राक्षस लोग इस यज्ञ का प्रयोग ताकत और ऊर्जावान होने के लिए निरंतर प्रयोग करते है। इसमें भगवान गणेश सहित अन्य ईष्ट देवों की पूजा की जाती है।
 
उसके बाद मा दुर्गा की पूजा दुर्गा सप्तशती के 9 पाठ पश्चात दुर्गा हवन किया जाता है, इसके फल से व्यक्ति की मनोकामना पूर्ण होती है और रुके कार्यो में गति आती है।
 
यह हवन पूजन विधान उज्जैन के हरसिद्धि पीठ पर, गढ़कालिका मंदिर एवं किसी भी सिद्ध स्थान पर विद्वान पंडितो द्वारा संपादित किया जाता है।

Shri Durga Shaptashati Nav Chandi Yagya Vidya 
 
Maa Durga is also called Goddess of power. The yagna method which is fulfilled in order to please Durga, is called Chandi Yagna. The Navchandi yagna has been described very powerful in Sanatan Dharma. This yagna helps to improve the position of disturbed planets and goos omen starts at one’s horoscope. After this sacrifice, the man can feel himself in a blissful environment. It has even spoken about its glory in the Vedas that after the Nav Chandi Yagna, one’s enemies cannot spoil anything. Dedicating this yagna to Ganesha, Lord Shiva, the new planet, and the new Durga (Goddess), the human life is blessed.
 
Yagya is done by the learned Brahmin because it recites 700 verses which only an accomplished Brahmin can do. The Nav Chandi Yagna is an extraordinary, extremely powerful and big sacrifice, which gives great grace to Goddess. In ancient times, gods and demons use this yagna continuously to be powerful and energetic. It is worshiped by other deviant Gods including Lord Ganesha.
 
Durga havan is done after 9 lessons of worship of Durga Saptashati, As a result, wishes of people get fulfilled.
This Havan Pujan Vidya is performed by the scholar Pandit on Harshidhi Peetha of Ujjain, the Garadh Kalika Mandir or any sacred place.

 

Note: 

हम आपको पूजा के फोटो / वीडियो व्हाट्सएप द्वारा प्रदान करेंगे ।
We also provide photo/video of the photo perform on behalf you at Whatsapp. 

 
 
Price : Rs. 11000.00